रतलाम के एक छोटे ग्राम से निकल कर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने वाले युवाओ के बारे में जानिए…..

0

News By – नीरज बरमेचा

12 जनवरी हो प्रत्येक वर्ष स्वामी विवेकानंद का जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाते हैं। उनका जन्मदिन  राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाए जाने का प्रमु्ख कारण उनका दर्शन, सिद्धांत, अलौकिक विचार और उनके आदर्श हैं, जिनका उन्होंने स्वयं पालन किया और भारत के साथ-साथ अन्य देशों में भी उन्हें स्थापित किया। उनके ये विचार और आदर्श युवाओं में नई शक्ति और ऊर्जा का संचार कर सकते हैं। उनके लिए प्रेरणा का एक उम्दा स्त्रोत साबित हो सकते हैं

‘उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाए’ का संदेश देने वाले युवाओं के प्रेरणास्त्रो‍त, समाज सुधारक युवा युग-पुरुष ‘स्वामी विवेकानंद’ का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता (वर्तमान में कोलकाता) में हुआ। इनके जन्मदिन को ही राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज भी स्वामी विवेकानंद को उनके विचारों और आदर्शों के कारण जाना जाता है। आज भी वे कई युवाओं के लिए प्रेरणा के स्त्रोत बने हुए हैं।

ऐसे ही तीन युवा भाइयों ने रतलाम का नाम राष्ट्रीय स्तर पर रोशन किया| रतलाम जिले के छोटे से कस्बे बांगरोद के निवासी राजमल सेलोत के बड़े सुपुत्र निलेश सेलोत एवं उनके दो भाइयों दीपक सेलोत एवं चंदन सेलोत ने कंधे से कंधा मिलाकर तेज अगरबत्ती (जैन प्रोडक्टस) का नाम आज सम्पूर्ण भारत में प्रचलित कर दिया।

चन्दन सेलोत, निलेश सेलोत, दीपक सेलोत

निलेश सेलोत की प्रारम्भिक शिक्षा सरकारी स्कूल से शुरू हुई और बीकॉम पर जाकर खत्म हो गई| अपने कैरियर की शुरुआत बांगरोद गाँव में ही 2001 में रासायनिक खाद बीज के व्यापार से की| बहुत ही मध्यम परिवार से होने के कारण शुरुआती दौर बहुत संघर्षपूर्ण रहा, संघर्ष के साथ पूंजी का भी अभाव था इसके चलते जैसे तैसे बहुत ही कम पूंजी से तेज अगरबत्ती की शुरुआती की|  2005 में बांगरोद के एक छोटे से कमरे से तेज अगरबत्ती का व्यवसाय शुरू किया। धीरे धीरे इस व्यापार को वे रतलाम लाए और आसपास के क्षेत्रों में मंदसौर, नीमच, झाबुआ आदि में अपना व्यापार को धीरे धीरे बढ़ाया।

2009 में जैन प्रोडक्ट्स के कदम रतलाम से निकलकर संपूर्ण मध्यप्रदेश तक पहुंच चुके थे। प्रारम्भिक दौर में तीन से चार प्रोडक्ट्स के द्वारा अपनी अगरबत्ती का विक्रय शुरू किया गया| लेकिन वर्तमान में आज जैन प्रोडक्टस के पास 200 से अधिक प्रोडक्ट्स कई खुशबूओ के साथ सम्पूर्ण भारत में अपना परचम लहरा रहे है।

आज इनके द्वारा 200 से अधिक परिवारों को रोजगार दिया जा रहा है| संपूर्ण भारत देश में 1200 से अधिक डिस्ट्रीब्यूटर है| देशभर में होने वाली इंटरनेशनल अगरबत्ती एग्जिबिशन में इन्होंने कई बार प्रतिनिधित्व किया है और सेव, साड़ी, सोना के साथ अगरबत्ती से भी रतलाम शहर का नाम हमेशा रोशन किया है|

रतलाम विधायक चैतन्य काश्यप द्वारा बनाए गए सेवा प्रकल्प ‘अहिंसा ग्राम’ में निवासरत 50 से अधिक महिलाओं के समूह को रोजगार प्रदान किया जा रहा है। आज जैन प्रोडक्ट्स (तेज अगरबत्ती) प्रदेश की प्रमुख अगरबत्ती निर्माता कंपनियों में से एक है|


 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here