अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद् ने रक्तदान के क्षेत्र में पुनः स्थापित किए कीर्तिमान

0

विश्व की सर्वाधिक रक्तदाता संस्था के रूप में गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज करवाने वाली संस्था अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद (अभातेयुप) ने कोविड महामारी की विषम परिस्थितियों में पुनः नए कीर्तिमान स्थापित किए।  लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिड़ला ने समाज सेवी संगठन अभातेयुप को इस महनीय कार्य हेतु बधाई देते हुए सराहना की। अभातेयुप की रतलाम शहर शाखा के अध्यक्ष हेमंत दख ने बताया कि कोविड काल मे राष्ट्रीय संगठन अभातेयुप ने भारत व नेपाल में फैली 350 शाखाओं व 40000 सदस्यों के माध्यम से करीब 30000 यूनिट रक्तदान कर एशिया बुक ऑफ रिकाॅर्ड, इण्डिया बुक ऑफ रिकाॅर्ड, ग्लोबल रिकाॅर्ड एण्ड रिसर्च फाउण्डेशन, एशिया पेसिफिक रिकाॅर्ड्स और ग्लोबल रिकाॅर्ड्स में नाम दर्ज करवाया है।

राजस्थान के कोटा में आयोजित औपचारिक समारोह में लोकसभा अध्यक्ष माननीय ओम बिड़ला जी ने उक्त सभी रिकाॅर्ड्स के सर्टिफिकेट्स का विमोचन करते हुए अभातेयुप के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमित नाहटा, MBDD राष्ट्रीय प्रभारी हितेश भांडिया, सह प्रभारी यशवंत रामपुरिया, कार्यसमिति सदस्य सुबोध पुगलिया को प्रदान किए। उन्होंने अभातेयुप के इस मानव सेवा के आयाम के प्रति अपनी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए संस्था एवं इस सेवाकार्य से जुड़े समर्पित युवकों एवं कार्यकर्ताओं को बधाई संप्रेषित की।

इस अवसर पर अभातेयुप के राष्ट्रीय अध्यक्ष संदीप कोठारी और महामंत्री मनीष दफ्तरी ने इस कीर्तिमान के लिए समस्त शाखा परिषदों की सक्रियता एवं युवाशक्ति के समर्पण हेतु उन्हें बधाई देते हुए इस महाअभियान में सहभागी समस्त महानुभावों के प्रति आभार व्यक्त किया है।

द्यातव्य है कि वर्ष 2013 में रक्तदान के क्षेत्र में एक दिन में 283 शहरों में एक साथ 100212 यूनिट रक्तसंग्रह कर गिनिज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवाने वाली अभातेयुप ने वर्ष 2016 में विश्व का सबसे लंबा चलने वाला रक्तदान अभियान आयोजित कर इंडिया बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम अंकित करवाया था।

तेरापंथ युवक परिषद् रतलाम के मंत्री पुनीत भंडारी ने अपने राष्ट्रीय संगठन के इस कीर्तिमान की जानकारी देते हुए इस उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त की तथा स्थानीय स्तर पर इस महाअभियान में जुड़ी युवकों की टीम को साधुवाद दिया और इसी प्रकार रक्तदान के क्षेत्र में स्थानीय स्तर पर कार्य करने हेतु कटिबद्धता जताई।