रतलाम में रेमडेसीविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले 7 आरोपी गिरफ्तार, जानिए किस तरह से करते थे कालाबाजारी…

0

News By – नीरज बरमेचा 

जिला रतलाम मे आवश्यक दवाओ, ऑक्सिजन एवं रेमडेसीवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी पर अंकुश लगाए जाने हेतु पुलिस अधीक्षक रतलाम गौरव तिवारी (भा0पू0से0) द्वारा समस्त थाना प्रभारीयो निर्देश दिये है व जनता की भागीदारी हेतु विशेष हेल्प लाइन शुरू की गई।

इसी तारतम्य मे दिनांक 25.04.2021 को  अवैध रूप से रेमडेसिवीर इंजेक्शन बेचें जाने की  मुखबिर सूचना पर कार्यवाही करते हुए, थाना प्रभारी IA रतलाम नीरज सारवान द्वारा सम्पूर्ण कार्यवाही मे कुल 7 आरोपीओ को गिरफ्तार किया है ।

घटना:
दिनांक 25/4/21 को थाना औधोगिक क्षेत्र रतलाम मे एक व्यक्ति द्वारा सूचना दी की उसके परिवार का एक सदस्य वर्तमान मे कोरोना पॉज़िटिव होकर गंभीर अवस्था मे अस्पताल मे इलाजरत है, जिसे इलाज हेतु रेमडेसिवीर इंजेक्शन की आवश्यकता है, परंतु डॉक्टरों के पास उपलब्ध न हो पाने के कारण इंजेक्शन की खोज मे एक उत्सव नायक नाम के व्यक्ति के बारे मे पता चला जो जीवंश अस्पताल मे काम करता है । जिससे फरियादी द्वारा संपर्क किया तो एक इंजेक्शन को उक्त व्यक्ति द्वारा 30 हज़ार रु की कीमत मे बेच रहा था, जिसका मार्केट रेट 1-3 हज़ार रूपय के बीच है । फरियादी द्वारा बताया गया कि उत्सव व इसके साथी लोग इस प्रकार कोरोना महामारी मे रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर लोगो की जान से खेल रहे है, और अवैध रूप से रूपये पैसे कमा रहे है । फरियादी द्वारा अपना नाम न उजागर करने कि शर्त पर कार्यवाही मे सहयोग हेतु सहमती प्रदान कि ।

घटना पर कार्यवाही :-
सूचना पर तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया व वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन मे टीम गठित कर दबिश कि योजना बनाई गई ।  रेमडेसिवीर इंजेक्शन के लेन – देन के समय रेड कर BEMS मे द्वितीय वर्ष मे पढ़ाई कर रहे आरोपी उत्सव नायक पिता ईश्वर नायक उम्र 25 साल नि.-ग्राम कोदरी पेटलावद जिला झाबुआ हामु.-जीवांश हास्पीटल रतलाम को रंगे हाथो एक रेम डेसीवर इंजेक्शन के साथ पकड़ा गया ।  जिसके द्वारा बताया गया कि यशपाल राठौर पिता श्यामसिंह राठौर उम्र 24 साल नि.-ग्राम पंचेड थाना नामली जिला रतलाम हामु.-जीवांश हास्पीटल रतलाम जो BHMS का फ़ाइनल इयर का छात्र होकर जीवंश हॉस्पिटल मे नौकरी करता है । उसी के कहने पर 30,000 रू. में बेचने आया हूँ । तथा हम दौनो को यह इंजेक्शन 25000 रू. में मिला है जिसके उपर 5000 रू. अवैध रूप से कमाकर कमीशन कालाबाजारी कर हम दौनो मिलकर खाते है।

घटना पर से थाना औधोगिक क्षेत्र रतलाम मे अपराध धारा 420,34 भादवि इजाफा धारा 386, 3/7 आवश्यक वस्तु अधिनीयम का पृथम दृष्टया दंडनीय पाया जाने से अपराध थाना औधोगिक क्षेत्र रतलाम मे पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया। एवं रेमडेसिवीर इंजेक्शन को आरोपीओ के कब्जे से जप्त किया ।

गिरफ्तार शुदा आरोपीओ से इंजेक्शन को उपलब्ध करने वाले व्यक्ति के बारे मे पूछताछ करने पर आरोपीओ द्वारा उक्त इंजेक्शन भारत मेडिकल रतलाम पर काम करने वाले प्रणव जोशी पिता यशवंत जोशी उम्र 21 नि.मंदसौर से 25000 रू. में अवैध रूप से खरीदकर बेचना बताया। जिसे त्वरित कार्यवाही करते हुए गिरफ्तार किया ।

यशवंत जोशी कि गिरफ्तार उपरांत पूछताछ मे उक्त रेमडेसिवीर इंजेक्शन जिला चिकित्सालय मे OPD पर्ची काटने वाले गोपाल मालवीय पिता राजू लाल निवासी सेजावता के माध्यम से कोन्फ्रेंस कॉल के माध्यम से यशपाल राठोर को उपलब्ध कराये जाने कि जानकारी दी, जानकारी पर तत्काल गोपाल मालवीय को ग्राम सेजावता से गिरफतार किया । व आरोपीके कब्जे से 1 Mylan Laboratories limited company का डेसरेम ब्रांड का रेमडेसिवीर इंजक्शन 100mg/ vial जप्त कि गई।

गोपाल मालवीय से पूछताछ पर गोपाल द्वारा उक्त इंजेक्शन सेजावता के रहने वाले रोहित मालवीय से लाना बताया, जो रोहित मालवीय पिता लक्ष्मीनारायण निवासी ग्राम सेजावता को गिरफ्तार किया गया ।

रोहित मालवीय से पूछताछ करने पर उसके द्वारा उक्त इंजेक्शन पंकज प्रजापत पिता भारत सिंह द्वारा उपलब्ध कराया जाना बताया ।

जानकारी पर पंकज प्रजापत को गिरफ्तार किया गया । व पूछताछ मे पंकज द्वारा जुर्म करना स्वीकार किया ।  व पूछताछ मे बताया कि उसकी बहन रीना पिता भारत सिंह शासकीय मेडिकल कॉलेज मे ICU मे स्टाफ नर्स का  काम करती है, व मरीज़ो को लगे हुए रेमडेसिवीर इंजेक्शन के खाली vial एवं बाहर कि पेकिंग को पंकज को उपलब्ध करती थी, जिस खाली vial मे आरोपी पंकज Monocef नामक Ceftrixone Injection का पाउडर भर कर उनकी दोबारा पेकिंग कर खरीदने वाले गोपाल व रोहित को उपलब्ध कराया करता था ।

अतः आज दिनांक को आरोपी पंकज प्रजापत के घर पुलिस टीम द्वारा दबिश दी गई व आरोपी के घर से रेमडेसिवीर इंजेक्शन के 4 खाली vial (बोतल), Monosef नामक Ceftrixone Injection के 8 खाली vial व 10 भरे Vial, 8 vial के ढक्कन, ढक्कन चिपकाने हेतु Feviquick, ढक्कन निकालने हेतु एक पेचकस,इंजेक्शन के बॉक्स पर नाम मिटाने हेतु सेनेटाइज़र, एक डॉक्टर टेप व मार्कर पेन जप्त किया गया ।

कैसे बनी इंजेक्शन की कालाबाजारी की कड़ी व कैसे बनाई गई अपराध करने की योजना:-

सर्वप्रथम दिनांक 10-4-21 को आरोपी रोहित मालवीय द्वारा अपने परिवार मे चाचा को कोरोना संक्रमित होने पर रेमडेसिवीर इंजेक्शन कि आवश्यकता होने पर उसकी पूर्व से परिचित, GMC मे स्टाफ नर्स  का कार्य करने वाली रीना प्रजापत से संपर्क कर 2 रेम डेसिवीर इंजेक्शन उपलब्ध कराये जाने हेतु कहा जिसे रीना द्वारा 3 हज़ार रूपय प्रति इंजेक्शन के हिसाब से कुल 6000/- रु मे रोहित मालवीय को उपलब्ध कराये ।

दिनांक 12-4-21 को जिला चिकित्सालय मे कार्य करने वाले गोपाल प्रजापत निवासी सेजावता को रेमडेसिवीर इंजेक्शन की अवशकायता होने पर आरोपी द्वारा उसके परिचित मेडिकल शॉप पर कार्य करने वाले प्रणव जोशी से संपर्क किया परंतु उपलब्ध नहीं हो सके । इसके उपरांत गोपाल द्वारा रोहित मालवीय से संपर्क किया । रोहित द्वारा रीना प्रजापत से संपर्क किया गया व कुल 6 इंजेक्शन रीना के भाई पंकज प्रजापत द्वारा उपलब्ध कराये गए ।

इसी बीच प्रणव द्वारा गोपाल से इंजेक्शन हेतु संपर्क किया गया व गोपाल द्वारा इंजेक्शन उपलब्ध करने हेतु सहमति दी । व प्रणव जोशी से यशपाल राठोर द्वारा इंजेक्शन उपलब्श कराये जाने हेतु कहा गया ।

प्रणव जोशी द्वारा गोपाल मालवीय से इंजेक्शन की डिमांड करने पर रोहित मालवीय के माध्यम से आरोपी पंकज से इंजेक्शन प्राप्त कर जीवंश अस्पताल मे कार्य करने वाले यशपाल राठोर को उपलब्ध करना प्रारम्भ किया व दिनांक 21/4/21 से 24/4/21 तक कुल 9 इंजेक्शन यशपाल द्वारा प्राप्त किये गए जो यशपाल द्वारा उत्सव नायक के माध्यम से 30-35 हज़ार रूपय की कीमत पर बेचा जाता था ।  


https://chat.whatsapp.com/HVVRTQbOliS9N5lbLifbSs
न्यूज़ इंडिया 365 के व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़ने और महत्वपूर्ण समाचारों के साथ अपने को अपडेट रखने के लिए, ऊपर दी गई लिंक पर क्लिक करे।
आप स्वयं जुड़े और अपने मित्रों साथियों को भी जोड़े


तरीका-ए-वारदात :-

 इंजेक्शन उपलब्ध करने हेतु GMC मे स्टाफ नर्स का काम करते वाली आरोपीय रीना प्रजापत द्वारा कोरोना मरीज़ो को लागने वाले रेमडेसिवीर इंजेक्शन की खाली vial(बोतल) को लाकर अपने भाई पंकज प्रजापत को उपलब्ध कराती थी, जिन खाली vial मे पंकज द्वारा मार्केट से 25 रूपय कीमत का monsefनमक ceftrixone injection का पाउडर भरा जाकर उसे पुनः पेकिंग कर दी जाती थी, एवं इंजेक्शन के डब्बे के ऊपर लिखे मरीज के नाम को सेनेटाइज़र की सहायता से मिटा कर उसपर डॉक्टर टेप चिकपा कर उसपर लिख कर उसका स्वरूप बादल दिया करते थे  ।

उक्त इंजेक्शन को पंकज प्रजापत द्वारा करीब 6-8 हज़ार रूपय मे रोहित मालवीय को दिया जाता था जिसे रोहित द्वारागोपाल मालवीय को13-14 हज़ार रूपय मे बेचा जाता था । जिसे गोपाल द्वारा प्रणव जोशी के माध्यम से जीवंश अस्पताल मे काम करने वाले यशपाल राठोर को 17 से 21 हज़ार रूपय मे बेच दिये जाते थे । जिन्हे यशपाल द्वारा उत्सव के माध्यम से30-35 हज़ार रूपय मे बिकवाया जाता था ।  

गिरफ्तार आरोपी :-

  1. उत्सव नायक पिता ईश्वर नायक उम्र 25 साल नि.-ग्राम कोदरी पेटलावद जिला झाबुआ हामु.-जीवांश हास्पीटल रतलाम ।
  2. यशपाल राठौर पिता श्यामसिंह राठौर उम्र 24 साल नि.-ग्राम पंचेड थाना नामली जिलारतलाम हामु.-जीवांश हास्पीटल रतलाम ।
  3. प्रणव जोशी पिता यशवंत जोशी उम्र 21 नि. ग्राम करजू जिला मंदसौर
  4. गोपाल मालवीय पिता राजूलाल उम्र 24 वर्ष निवासी ग्राम सेजावता
  5. रोहित पिता लक्ष्मी नारायण प्रजापत उम्र 24 वर्ष निवासी ग्राम सेजावता
  6. पंकज प्रजापत पिता भारत सिंह प्रजापत उम्र 25 वर्ष निवासी शिव नगर रतलाम
  7. रीना पिता भारत सिंह प्रजापत निवासी शिव नगर रतलाम

जप्त सामाग्री :-

दिनांक 24/4/21 को :- आरोपी उत्सव नायक के कब्जे से :-

mylan laboratories limited company का डेसरेम ब्रांड का रेमडेसिवीर इंजक्शन 100mg/ vial  

दिनांक :- 26/4/21 को :- 

आरोपी गोपाल मालवीय के कब्जे से :-

mylan laboratories limited company का डेसरेम ब्रांड का रेमडेसिवीर इंजक्शन 100mg/ vial

आरोपी पंकज व रीना प्रजापत के कब्जे से :-

  1. रेमडेसिवीर इंजेक्शन के खाली vial (बोतल)– 4
  2. monosefनमक ceftrixone injectionके खाली vial – 8
  3. monosefनमक ceftrixone injectionकेभरे vial– 10 ( कीमत 25 रु प्रति इंजेक्शन )
  4. vial के ढक्कन– 8
  5. ढक्कन चिपकाने हेतु feviquick
  6. ढक्कन निकालने हेतु एक पेचकस
  7. इंजेक्शन के बॉक्स पर नाम मिटाने हेतु सेनेटाइज़र
  8. एक डॉक्टर टेप ।
  9. मार्कर पेन जप्त किया गया ।

घटना पर से थाना औ0क्षेत्र जावरा मे अपराध धारा 420,34 भादवि इजाफा धारा 386, 3/7 आवश्यक वस्तु अधिनीयम का पंजीबद्ध किया गया एवं सम्पूर्ण कार्यवाही उपरांत नए तथ्य प्रकाश मे आने पर आज दिनांक को प्रकरण मे धारा 308,120बी भा0द0वि0 का इजाफा किया गया है एवं धारा 467,468,471 भा0 द0वि0 का इजाफा भी किया जावेगा । अन्य तथ्य प्रकाश मे आने पर प्रकरण मे उपयुक्त धाराओ का इजाफा किया जावेगा ।

सरहनीय भूमिका :-

उक्त सराहनीय कार्य मे अति0 पुलिस अधीक्षक महोदय रतलाम (सिटि) डॉ0 इंद्रजीत बकलवार के निर्देशन मे नगर पुलिस अधीक्षक हेमंत चौहान के नेत्रत्व वाली टीम जिसमे थाना प्रभारी औ0 क्षेत्र रतलाम नीरज सारवान, साइबर सेल प्रभारी उ0नि0 अनुराग यादव,उ0नि0 प्रमोद राठोर,सउनि आर.एस.रावत, प्र0आर0 मनमोहन शर्मा, प्र0आर0 हिम्मत सिंह, आर0 विपुल भावसार, आर0 संदीप शर्मा, आर.812 लोकेन्द्र सोनी, आर.59 वीरेन्द्र बारोड की महत्वपूर्ण भूमिका रही । 

अपील :-

जनता से अपील है, की यदि उन्हे आवश्यक दवाओ, ऑक्सिजन एवं रेमडेसीवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी के संबंध मे  में कोई जानकारी हो तो हेल्प लाइन नंबर :-  7049162265,  07412-270474  या 07412-222223  पर बगैर किसी भय के कॉल या वट्सएप के माध्यम से सूचना से अवगत करावे । सुचनकर्ता की पहचान गोपनीय रखी जावेगी ।


https://chat.whatsapp.com/HVVRTQbOliS9N5lbLifbSs
न्यूज़ इंडिया 365 के व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़ने और महत्वपूर्ण समाचारों के साथ अपने को अपडेट रखने के लिए, ऊपर दी गई लिंक पर क्लिक करे।
आप स्वयं जुड़े और अपने मित्रों साथियों को भी जोड़े

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here