होम रतलाम 11 सितंबर से वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर से सेवा केंद्रों द्वारा प्रदान की...

11 सितंबर से वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर से सेवा केंद्रों द्वारा प्रदान की जाएँगी भू-अभिलेख प्रतिलिपियां

0
  • 11 सितंबर को वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर से सेवा केंद्रों द्वारा भू-अभिलेख प्रतिलिपियां प्रदाय करने का कार्य जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में समारोहपूर्वक आरंभ किया जाएगा

रतलाम जिले में आगामी 11 सितंबर से वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर लागू कर विभिन्न सेवा केंद्रों जैसे लोक सेवा केंद्र, आईटी सेंटर, ऑनलाइन केंद्र आदि द्वारा नागरिकों को भू-अभिलेखो की प्रतिलिपियां प्रदान करने का कार्य समारोहपूर्वक आरंभ किया जाएगा। कार्यक्रम जिले के सभी लोक सेवा केन्द्रों पर 11 सितमबर को जनतिनिधियो की उपस्तिथि में होगा।

advt.

कलेक्टर रुचिका चौहान ने बताया भू-अभिलेख पोर्टल से भू-अभिलेख ऑनलाइन प्रक्रिया से प्रतिलिपियां प्राप्त करने की जानकारी आमजन को दी जाएगी। इससे अनावश्यक रूप से लोक सेवा केंद्र में भू-अभिलेख की प्रतिलिपियां प्राप्त करने के लिए लंबी कतारें नहीं लगेगी। शासन द्वारा 1 अगस्त 2019 से प्रतिलिपि प्रदान की दरों को सरलीकृत किया है। बताया गया है कि 1 साल या 5 साला खसरा या खाता जमाबंदी आदि अभिलेख के प्रथम पृष्ठ के लिए रूपए 30 तथा प्रत्येक अतिरिक्त पृष्ठ के लिए रूपए 15 फीस ली जाएगी। वाजिब उल अर्ज निस्तार पत्रक के  प्रथम पृष्ठ के लिए रूपए 30 तथा प्रत्येक अतिरिक्त पृष्ठ के लिए रूपए 15 एवं A4 आकार में नक्शे की प्रति के लिए भी प्रथम पृष्ठ के रूपए  30 एवं प्रत्येक अतिरिक्त पृष्ठ  के रूपए 15 लिए जाएंगे।

खतरे में बंधक दर्ज करने के लिए वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर में लॉगइन सभी बैंकों को दिए गए हैं। इसके लिए भूमि स्वामी को तहसील कार्यालय में आकर बंधक दर्ज करने के लिए आवेदन देने की आवश्यकता नहीं है। विभिन्न सेवा केंद्रों से नागरिकों को भू-अभिलेख प्रतिलिपियां प्रदाय करने का कार्य समारोह आयोजन द्वारा 11 सितंबर  से आरंभ किया जाएगा। प्रदेश के 21 चयनित जिलों में शामिल रतलाम जिले में भी वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर लागू कर विभिन्न सेवा केंद्र जैसे लोकसभा केंद्र, आईटी सेंटर या किओस्क ऑनलाइन आदि से नागरिकों को भूअभिलेख कर प्रतिनिधि या प्रदाय करने का कार्य आरंभ किया जा रहा है।

advt.

error: Content is protected !!